बेचैनी

Photo Credit: time.com
Photo Credit: time.com

बेचैनी है,

सुकून जैसे दबे पांव कहीं गुम हो गया,

सांसो ने साँस लेना छोड़ दिया,

क्या करूं जब जज्बातों का सैलाब जेहन को झंझोड़ता है,

आँखों का पानी जैसे दिल को निचोड़ता है,

कलम उठाता हूँ,

शब्दों की सिलवटों को मिटाने के लिए,

यूँ तो अन्दर तूफ़ान है,

मग़र वो काफी नहीं,

एक हल्के से कागज़ को उड़ाने के लिए,

बेचैनी है,

अब तो जैसे गला भी सूखने लगा,

बेख़ौफ़ निकला करते थे शब्द कभी जो,

गुमसुम किसी कोने में सिसकियाँ ले रहे हैं शायद,

लिखा हुआ हर अक्षर झूठा लगता है,

देखो चाँद भी तो टूटा लगता है,

क्या ऐसा ही होता है हर किसी के साथ?

क्यूँ सोचा हुआ हर शब्द लूटा लगता है?

बेचैनी है,

फिर वही…

English Version

Advertisements

7 Comments

Add yours →

  1. beautifully rendered and so nice to read! great lines Neeraj!

  2. I ran this through google translate and I know it didn’t do this piece justice. I’m not sure how accurate it was, if you have time I would love to see this posted in english 🙂

  3. Somehow, you’ve said things I wanted to say . . Thank you . . it’s beautiful 🙂 . .

One Pingback

  1. Restlessness | Pieces

Share your emotions:

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: